साउथ आॅस्ट्रेलिया के साथ सिस्टर-स्टेट करार

रिसर्जेंट राजस्थान पार्टनरशिप समिट – 2015

मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे की मौजूदगी में गुरुवार को रिसर्जेंट राजस्थान पार्टनरशिप समिट के तहत राजस्थान और दक्षिणी आॅस्ट्रेलिया के बीच सिस्टर-स्टेट रिलेशनशिप के महत्वपूर्ण एमओयू पर हस्ताक्षर हुए। इस अवसर पर दक्षिणी आॅस्ट्रेलिया के निवेश और व्यापार मंत्री श्री मार्टिन हेमिल्टन स्मिथ तथा भारत में आॅस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त श्री पेट्रिक सकलिंग भी उपस्थित थे।

इस एमओयू के तहत दोनों राज्य पेयजल, पर्यावरण प्रबन्धन, ऊर्जा, प्राकृतिक संसाधन प्रबन्धन, कृषि व्यापार, खाद्यान्न, शिक्षा, कौशल विकास और प्रशिक्षण, पर्यटन एवं खेल के क्षेत्रों में व्यापार और निवेश के अवसर तलाशने के लिये साझा कार्ययोजना बनाएंगे। उल्लेखनीय है कि आॅस्ट्रेलिया रिसर्जेंट राजस्थान पार्टनरशिप समिट-2015 का पार्टनर कंट्री है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान और साउथ आॅस्ट्रेलिया के बीच कई भौगोलिक तथा सांस्कृतिक समानताएं होने के कारण यह समझौता बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि इससे दोनों राज्यों के बीच व्यावसायिक भागीदारी को बढ़ावा मिलने के साथ ही सांस्कृतिक समझ भी बेहतर होगी। जिसका फायदा दोनों राज्यों के आमजन को होगा।

श्रीमती राजे ने कहा कि राजस्थान को खानों के अधिकतम सदुपयोग और कम से कम वेस्टेज की विशेषज्ञता हासिल करने के लिए आॅस्ट्रेलिया का सहयोग मिल सकता है। राजस्थान एवं आॅस्ट्रेलिया खनन क्षेत्र में नवीनतम तकनीक एवं प्रशिक्षण के क्षेत्र में भी काम कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि वाटर और वेस्ट मेनेजमेंट, माइनिंग, शिक्षा और कौशल विकास तथा रिन्यूबल एनर्जी के क्षेत्र में दक्षिणी आॅस्ट्रेलिया की विशेषज्ञता का लाभ राजस्थान को मिलेगा।

केंद्रीय स्टील एवं खान मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सतत खनन हमारे संस्कार में है और प्रत्येक खनन कम्पनी का यह दायित्व है कि वह माइनिंग फ्रेंडली हो। उन्होंने कहा कि उसे जागरूक होने के साथ-साथ वन, पर्यावरण एवं सामाजिक भूमिकाओं को निभाते हुए अंतर्राष्ट्रीय मानदंडों के अनुरूप खनन कार्यों को मूर्तरूप प्रदान करना चाहिए।

श्री तोमर ने कहा कि राजस्थान सरकार द्वारा वैश्विक निवेश सम्मेलन करवाने का फैसला स्वागतयोग्य है और राजस्थान ने इसके लिए अनुकूल माहौल तैयार किया है। उन्होंने इसके लिए मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे को बधाई देते हुए कहा कि राजस्थान के गर्भ में शौर्य एवं प्राकृतिक संपदा है, इसका राज्य व देश के उपयोग में उचित उपयोग हो, तो यह गाथा विश्व के पटल पर होगी।

प्रदेश के वन पर्यावरण एवं खनिज राज्य मंत्री श्री राजकुमार रिणवा ने कहा कि जनता ने मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे को जो विश्वास दिया है, वह अब फलीभूत हो रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य खनन के क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहा है तथा सभी प्रक्रिया आॅनलाइन हो रही हैं।

सत्र में वेदांता रिर्सोसेज के सीईओ श्री टाॅम एलबनीज ने कहा कि राजस्थान में राज्य सरकार ने खनन को बढ़ावा देने तथा नियमों के सरलीकरण एवं व्यापार में आसानी के लिए सकारात्मक पहल की है। सेंट गोबेन ग्लास इंडिया के निदेशक आॅपरेशन श्री एस.एन. आइजनहावर, जिंदल स्टील एवं पावर लिमिटेड के कार्यकारी उपाध्यक्ष श्री कपिल ढगत ने भी सरकार की खनन नीतियों की प्रशंसा की। बैठक में प्रमुख शासन सचिव खनिज एवं पेट्रोलियम श्री दीपक उप्रेती भी मौजूद थे।

जयपुर, 19 नवम्बर 2015

This slideshow requires JavaScript.