जापान और राजस्थान विकास यात्रा के हमसफर

रिसर्जेंट राजस्थान के अन्तर्गत गुरुवार को सीतापुरा स्थित जेआईसीसी सेंटर में हुए समानान्तर सत्रों में जापान कंट्री सत्र में मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने कहा कि जापान और राजस्थान आर्थिक विकास की यात्रा में घनिष्ठ साझेदार हैं। जापान ने राजस्थान में नीमराना में निवेष यात्रा शुरू की और अब गिलोट की ओर कदम बढ़ाए हैं। पूरी टीम राजस्थान इसमें आने वाली किसी भी समस्या के निराकरण के लिए दिन-रात सक्रिय है।

श्रीमती राजे ने कहा कि कोई भी समस्या इतनी बड़ी नहीं है, जो इस विकास यात्रा की गति को कम कर सके या रोक सके। उन्होंने जापानी कम्पनियों से यहां उद्योग लगाने के साथ ही कौषल विकास के लिए भी काम करने का अनुरोध किया।

इस सत्र में श्रीमती राजे की उपस्थिति में कुल 685 करोड़ रुपये राषि के 4 एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए। ये एमओयू नीमराना में आॅटोमाबाइल पार्ट्स, एयर कंडीषनर्स, वेयरहाउस, डिस्ट्रीब्यूषन सेंटर एवं फेब्रिकेषन फैक्ट्री एवं फाउण्ड्री से सम्बन्धित थे। एमओयू नगानो प्राॅडक्ट्स काॅर्पोरेषन लि., डाइकिन एयर कंडीषनिंग इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, निप्पो एक्सप्रेस (इंडिया) प्राइवेट लि. और सांक्यू इंडिया लाॅजिस्टक्स एण्ड इंजीनियरिंग प्राइवेट लि. एवं रीको के बीच हुए। राजस्थान सरकार की ओर से इन एमओयू पर उद्योग विभाग की प्रमुख शासन सचिव श्रीमती वीनू गुप्ता ने हस्ताक्षर किये।

जापान के दक्षिण पष्चिमी एषिया ट्रेड पाॅलिसी ब्यूरो के महानिदेषक श्री सेइजी ताकागी ने राजस्थान को निवेष के लिहाज से एक आकर्षक डेस्टिनेषन बताया। जापान में भारत के पूर्व राजदूत श्री आलोक प्रसाद ने कहा कि जापान के साथ रणनीतिक एवं आर्थिक सम्बन्धों को पिछले कुछ वर्ष में नई ऊंचाइयां मिली हैं। वर्ष 2008 से ही दोनों के देषों के प्रधानमंत्री हर वर्ष मिलते रहे हैं। इससे इण्डो-पैसेफिक क्षेत्र में शांति एवं विष्वास का माहौल मजबूत हुआ है। चर्चा के दौरान जेट्रो के चीफ डायरेक्टर जनरल श्री नाओयोषी नोगुची ने राजस्थान की कम्पनियों को भी जापान में निवेष के लिए आमंत्रित किया।

जयपुर, 19 नवम्बर 2015

This slideshow requires JavaScript.