rsldc

राजस्थान के कुशल युवाओं की कहानी

मैं पूनम जावड़ा ग्रामीण गरीब परिवार से हूं मेरी शिक्षा 12वीं कक्षा तक ही है और किसी प्रकार का जाॅब करना असम्भव सा था। कुछ समय पहले मुझे मेरे पति ने बताया कि राजस्थान सरकार के राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम के माध्यम से निःशुल्क मेकअप आर्टिस्ट का...

मेरे परिवार को मिला अब मिला सम्बल

मैं पूनम जावड़ा ग्रामीण गरीब परिवार से हूं मेरी शिक्षा 12वीं कक्षा तक ही है और किसी प्रकार का जाॅब करना असम्भव सा था। कुछ समय पहले मुझे मेरे पति ने बताया कि राजस्थान सरकार के राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम के माध्यम से निःशुल्क मेकअप आर्टिस्ट का…
मेरा परिवार जिसमें हम पांच बहिने एवं मेरे माता-पिता सहित कुल सात सदस्य है। हम सभी केवल मेरे पिता की 5 हजार रूपये प्रतिमाह की आय पर आश्रित थे। हमारी घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी।...

राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम ने सवारी मेरी जिन्दगी

मेरा परिवार जिसमें हम पांच बहिने एवं मेरे माता-पिता सहित कुल सात सदस्य है। हम सभी केवल मेरे पिता की 5 हजार रूपये प्रतिमाह की आय पर आश्रित थे। हमारी घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी।…
मेरे पापा खेती का कार्य करते है, घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी, इसलिए आगे नहीं पढ़ पायी। राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम द्वारा संचालित मानव विकास एवं सेवा संस्थान की टीम हमारे गाव में आयी तो मुझे टेली के कोर्स के बारे में जानकारी मिली।...

कौशल से हुई राह आसान

मेरे पापा खेती का कार्य करते है, घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी, इसलिए आगे नहीं पढ़ पायी। राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम द्वारा संचालित मानव विकास एवं सेवा संस्थान की टीम हमारे गाव में आयी तो मुझे टेली के कोर्स के बारे में जानकारी मिली।…
मुझे राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम, सवाईमधोपुर द्वारा चलाये जा रहे विभिन्न ट्रेनिंग कोर्स की सहेली के माध्यम से जानकारी मिली। मैनें पोद्दार टैनिंग एवं मैनजमेंट इंस्टीट्यूट, गंगापुरसिटी मे अकाउंटिग का कोर्स सीखा। प्रशिक्षण पूर्ण होने के बाद मुझे...

छिपे हुए हुनर को बाहर निकाल पायी

मुझे राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम, सवाईमधोपुर द्वारा चलाये जा रहे विभिन्न ट्रेनिंग कोर्स की सहेली के माध्यम से जानकारी मिली। मैनें पोद्दार टैनिंग एवं मैनजमेंट इंस्टीट्यूट, गंगापुरसिटी मे अकाउंटिग का कोर्स सीखा। प्रशिक्षण पूर्ण होने के बाद मुझे…
मैं बहुत ही गरीब परिवार से हूँ । मेरे पिता की आर्थिक स्थिति बहुत ही कमजोर रही हैं। मेरे पिता की मासिक आय 3000/- रूपये हैं। मेरे परिवार में कोई पढा लिखा नही हैं  जो मुझे सही रास्ता दिखा सके । अपनी 12 वीं कक्षा तक की पढ़ाई करने बाद पारिवारिक समस्याओं की वजह से...

भविष्य में कार्यालय सहायक बनना चाहती हूं

मैं बहुत ही गरीब परिवार से हूँ । मेरे पिता की आर्थिक स्थिति बहुत ही कमजोर रही हैं। मेरे पिता की मासिक आय 3000/- रूपये हैं। मेरे परिवार में कोई पढा लिखा नही हैं जो मुझे सही रास्ता दिखा सके । अपनी 12 वीं कक्षा तक की पढ़ाई करने बाद पारिवारिक समस्याओं की वजह से…
मैं बांसवाड़ा जिले के शहरी क्षैत्रा की गरीब महिला हूं। परिवार की आय का मुख्य स्त्रोत छोटा मोटा रोजगार था जो की कुछ खास नही थी। परिवार की कमजोर आर्थिक स्थिति के कारण मैं कक्षा 12वीं से अधिक नहीं पढ़ पायी...

नौकरी के बाद मेरे परिवार के मान सम्मान में हुई वृद्वि

मैं बांसवाड़ा जिले के शहरी क्षैत्रा की गरीब महिला हूं। परिवार की आय का मुख्य स्त्रोत छोटा मोटा रोजगार था जो की कुछ खास नही थी। परिवार की कमजोर आर्थिक स्थिति के कारण मैं कक्षा 12वीं से अधिक नहीं पढ़ पायी…
मैं मेरे परिवार के साथ हिण्डौन में रहती हूं। यह क्षेत्र शिक्षा के क्षेत्र में खासकर लड़कियों की शिक्षा के क्षेत्र में विकसित नहीं है। लेकिन मेरे माता पिता ने हमेशा से मेरी पढ़ाई में...

अपने जिले में महिला शिक्षा के लिए काम करना चाहती हूं

मैं मेरे परिवार के साथ हिण्डौन में रहती हूं। यह क्षेत्र शिक्षा के क्षेत्र में खासकर लड़कियों की शिक्षा के क्षेत्र में विकसित नहीं है। लेकिन मेरे माता पिता ने हमेशा से मेरी पढ़ाई में…
मैं ग्रेजुएट होने के बाद घर पर ही रहती थी। भारतीय समाज में महिलाओं को सिर्फ घरेलु या ग्रहिणी होने की दृष्टि से ही देखा जाता है। परन्तु मेरे पिताजी की तबियत खराब होने की वजह से परिवार को चलाना मेरी भी जिम्मेवारी हो गई थी।...

कौशल प्रशिक्षण से हुई मेरे आत्मविश्वास में वृद्वि

मैं ग्रेजुएट होने के बाद घर पर ही रहती थी। भारतीय समाज में महिलाओं को सिर्फ घरेलु या ग्रहिणी होने की दृष्टि से ही देखा जाता है। परन्तु मेरे पिताजी की तबियत खराब होने की वजह से परिवार को चलाना मेरी भी जिम्मेवारी हो गई थी।…
अर्जुन लाल जयपुर जिले के शाहपुरा तहसील के छोटे से गांव नयावास से आया है जहाँ उसके पिताजी की एक दुकान हैं। इससे पुरे परिवार का खर्च चलता है। उसके परिवार में कुल 5 सदस्य है और उपयुक्त आमदनी न होने के कारण...

मेरा कौषल

अर्जुन लाल जयपुर जिले के शाहपुरा तहसील के छोटे से गांव नयावास से आया है जहाँ उसके पिताजी की एक दुकान हैं। इससे पुरे परिवार का खर्च चलता है। उसके परिवार में कुल 5 सदस्य है और उपयुक्त आमदनी न होने के कारण…
हनुमानगढ जिले के रहने वाले बाबूलाल से सामने 12 वीं तक पढाई पूर्ण करने के बाद परिवार के भरण-पोषण एवं आर्थिक सहयोग की जिम्मेदारी, बडी चुनौतीपूर्ण था। रोजगार के अवसरों की तलाष तथा अपने हूनर को पहचान एवं दिषा नही मिल पाने के कारण उसका आत्मविष्वास कमजोर पड गया था।...

हुनर विकास से मिली पहचानः हौसलों को मिली उड़ान

हनुमानगढ जिले के रहने वाले बाबूलाल से सामने 12 वीं तक पढाई पूर्ण करने के बाद परिवार के भरण-पोषण एवं आर्थिक सहयोग की जिम्मेदारी, बडी चुनौतीपूर्ण था। रोजगार के अवसरों की तलाष तथा अपने हूनर को पहचान एवं दिषा नही मिल पाने के कारण उसका आत्मविष्वास कमजोर पड गया था।…
मैं निहालचंद झालावाड़ के पिड़ावा कस्बा के साधारण परिवार का रहने वाला हूँ। मेरी  पारिवारिक आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण मैं 9 वीं तक ही पढ़ पाया। मुझे इस बात का बेहद दुख था कि मैं घर की आर्थिक स्थिति में अपना योगदान नहीं दे पा रहा था। अक्सर काम नही मिलने के कारण...

निहालचंद के साधारण परिवार की सफलता की कहानी

मैं निहालचंद झालावाड़ के पिड़ावा कस्बा के साधारण परिवार का रहने वाला हूँ। मेरी पारिवारिक आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण मैं 9 वीं तक ही पढ़ पाया। मुझे इस बात का बेहद दुख था कि मैं घर की आर्थिक स्थिति में अपना योगदान नहीं दे पा रहा था। अक्सर काम नही मिलने के कारण…
शहनाज बानु ने यह साबित कर दिया कि सामाजिक रीति-रिवाज के कारण किसी लड़की को कितनी ही चुनौती का सामना करना पड़े अगर वह आगे बढ़ना चाहे तो उसे कोई नहीं रोक सकता। शहनाज बहुत ही गरीब परिवार से है। नरेगा में काम करती थी। उनके पिता की मासिक आय भी 5000 रूपये...

भविष्य में स्वंय का लघु उद्योग स्थापित करना चाहती हूं

शहनाज बानु ने यह साबित कर दिया कि सामाजिक रीति-रिवाज के कारण किसी लड़की को कितनी ही चुनौती का सामना करना पड़े अगर वह आगे बढ़ना चाहे तो उसे कोई नहीं रोक सकता। शहनाज बहुत ही गरीब परिवार से है। नरेगा में काम करती थी। उनके पिता की मासिक आय भी 5000 रूपये…
मेरे घर की आर्थिक स्थिति सुदृढ़ नहीं थी। मेरे पिताजी की कम आय होने के कारण परिवार के लिए कमाना मेरी भी जिम्मेदारी हो गई थी। 12वीं के बाद मैंने आई.टी.आई कर ली थी लेकिन कम्प्यूटर व अग्रेजी का मुझे बिलकुल भी ज्ञान नहीं था ऐसे में मुझे कहीं भी नौकरी नहीं मिली।...

कौशल प्रशिक्षण ने दी रवि के करियर को नई दिशा

मेरे घर की आर्थिक स्थिति सुदृढ़ नहीं थी। मेरे पिताजी की कम आय होने के कारण परिवार के लिए कमाना मेरी भी जिम्मेदारी हो गई थी। 12वीं के बाद मैंने आई.टी.आई कर ली थी लेकिन कम्प्यूटर व अग्रेजी का मुझे बिलकुल भी ज्ञान नहीं था ऐसे में मुझे कहीं भी नौकरी नहीं मिली।…
बचपन से आशा को जिन्दगी में आगे बढ़ने की तमन्ना थी लेकिन उसे रास्ता नहीं मिल पा रहा था, कौशल प्रशिक्षण के कोर्स ने न केवल उसके करियर बल्कि उसके सपनों को भी नई शुरुआत दी है। पाली जिले के जैतारण ब्लाॅक से आई 21 वर्षीय आशा मेघवाल ने 2015 में अपना स्नातक...

आशा के सपनों की शुरुआत हुई कौशल प्रशिक्षण से

बचपन से आशा को जिन्दगी में आगे बढ़ने की तमन्ना थी लेकिन उसे रास्ता नहीं मिल पा रहा था, कौशल प्रशिक्षण के कोर्स ने न केवल उसके करियर बल्कि उसके सपनों को भी नई शुरुआत दी है। पाली जिले के जैतारण ब्लाॅक से आई 21 वर्षीय आशा मेघवाल ने 2015 में अपना स्नातक…
22 वर्षीय श्याम सुन्दर कौशल प्रशिक्षण सीखकर आज अपने पैरों पर खड़ा हो गया है। आत्मनिर्भर बनकर आज वह गांव के अन्य युवाओं को अपना हुनर विकसित करने के लिए राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम में प्रशिक्षण सीखने के लिए प्रेरित करता है और...

कौशल प्रशिक्षण ने श्याम सुंदर को प्रदान किया आर्थिक सबंल

22 वर्षीय श्याम सुन्दर कौशल प्रशिक्षण सीखकर आज अपने पैरों पर खड़ा हो गया है। आत्मनिर्भर बनकर आज वह गांव के अन्य युवाओं को अपना हुनर विकसित करने के लिए राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम में प्रशिक्षण सीखने के लिए प्रेरित करता है और…

Mission Skill Rajasthan - Jhalawar