जो विकास कांग्रेस ने 50 साल में नहीं किया, हमने 4 साल में कर दिखाया

सरकार की चौथी वर्षगांठ पर झुंझुनूं में समारोह

मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने कहा कि आजादी के बाद जो काम कांग्रेस ने 50 सालों में भी नहीं किए, वे काम हमने मात्र चार साल में कर दिखाए हैं। पिछली सरकारें ये काम नहीं कर पायी क्योंकि उनमें इसके लिए इच्छा-शक्ति नहीं थी। कांग्रेस पार्टी आदत से मजबूर है कि वह न तो खुद काम करती है और न ही दूसरों को करने देती है। लेकिन हमने प्रदेश के विकास का जो संकल्प लिया है उसे हर हाल में पूरा करेंगे।

श्रीमती राजे बुधवार को सरकार की चौथी वर्षगांठ के अवसर पर झुंझुनूं में आयोजित समारोह को संबोधित कर रही थीं। इस अवसर पर उन्होंने झुंझुनूं जिले के लिए 2 हजार 237 करोड़ के विकास कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास करने के साथ ही प्रदेश के विकास के लिए कई महत्वपूर्ण घोषणाएं कीं।

मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों की खुशहाली के लिए सौगातों की बौछार करते हुए कहा कि चार साल पहले जब हमने सत्ता संभाली थी तो वादा किया था कि राजस्थान का खोया स्वाभिमान हम हर कीमत पर लौटाएंगे। आज हम विकास के कई मायनों में देश के अन्य राज्यों से आगे है। हमने दिन-रात मेहनत कर राजस्थान के लिए यह मुकाम बनाया है। उन्होंने कहा कि झुन्झुनूं में राष्ट्रीय खेल संस्थान, पटियाला की तर्ज पर क्रीड़ा विष्वविद्यालय के स्थान पर राज्य क्रीड़ा संस्थान की स्थापना की जायेगी। राज्य की सभी 15 खेल अकादमियों को इससे सम्बद्ध किया जाएगा।

कुंभाराम कैनाल पर अब तक हुई राजनीति, आजादी के बाद पानी हम लाए

श्रीमती राजे ने कहा कि आजादी के बाद से कुंभाराम लिफ्ट कैनाल के नाम पर क्षेत्र के साथ राजनीति होती रही। अब हमने केवल 4 साल में यहां पानी पहुंचाया है। हमने 172 करोड़ रूपए खर्च कर तारानगर से मलसीसर तक पाइपलाइन से पानी पहुंचाया और उसे शोधित कर झुन्झुनूं जिले के विभिन्न गांवों और कस्बों को दिया। अब क्षेत्र को प्रतिदिन 15 करोड़ 50 लाख लीटर पानी उपलब्ध होगा।

आजादी के बाद पहली बार 6,994 गांवों तक पेयजल और 1,662 तक सड़क पहुंचाई

मुख्यमंत्री ने कहा कि 50 वर्षों में प्रदेश के 16 जिलों के 6 हजार 994 गांव पेयजल से वंचित रहे जिन्हें हमने पेयजल उपलब्ध कराया। इसी तरह 22 जिलों के 1662 गांव जो सड़क से नहीं जुड़ पाए थे, हमने उन्हें सड़कों से जोड़ा। ऐसे कई स्थान जहां न सरकारी और न निजी कॉलेज था वहां हमने सरकारी कॉलेज खोले।

हर रोज 25 किमी सड़क विकास

श्रीमती राजे ने कहा कि आज प्रदेश में प्रतिदिन 25 किलोमीटर सड़क विकास हो रहा है। प्रदेश में हर ग्राम पंचायत में आदर्श विद्यालय की हमारी योजना के तहत आज 4 हजार 437 आदर्श विद्यालय विकसित हो चुके हैं। साथ ही अंग्रेजी माध्यम के विवेकानंद मॉडल स्कूल भी शुरू हो गए हैं।

किसानों को 58 हजार करोड़ के ब्याज मुक्त फसली ऋण

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की खुशहाली के लिए हमने हरसंभव प्रयास किए हैं। पिछले चार वर्ष में हमने 58 हजार 210 करोड़ रुपए का ब्याज मुक्त फसली ऋण दिया, जो देश में एक रिकॉर्ड है। इस कार्यकाल में हम 75 हजार करोड़ रुपए का ब्याज मुक्त फसली ऋण देंगे, जबकि पिछली सरकार पूरे पांच साल में केवल 25 हजार करोड़ रुपए का ही ऋण दे पाई थी।

नहीं किया राजनीतिक भेदभाव

श्रीमती राजे ने कहा कि झुन्झुनूं जिले में 7 विधानसभा सीटों में से केवल 2 भाजपा की है इसके बावजूद हमने विकास में कभी भी राजनीतिक भेदभाव नहीं किया। जिले के सभी विधानसभा क्षेत्रों में समान रूप से 4 वर्ष के दौरान 5 हजार 400 करोड़ के विकास कार्य करवाए, जबकि पिछली सरकार ने पांच वर्ष में झुंझुनूं के विकास पर केवल 2 हजार 500 करोड़ रुपए खर्च किए। हम झुंझुनूं की 445 युद्ध वीरांगनाओं को विशेश पहचान पत्र जारी कर रहे हैं, जिससे उन्हें राजकीय कार्यों में प्राथमिकता मिल सकेगी। झुंझुनूं जिले के पूर्व सैनिकों के 1620 बच्चों को छात्रवृत्ति दी जा रही है। साथ ही द्वितीय विश्व युद्ध में भाग लेने वाले जिले के 398 पूर्व सैनिकों एवं विधवाओं को सरकार 4 हजार रुपए प्रतिमाह आर्थिक सहायता दे रही है।

श्रीमती राजे ने समारोह में जिले के 13 अमर शहीदों की वीरांगनाओं और परमवीर चक्र विजेता शहीद पीरूसिंह के भाई ओमप्रकाश को तलवार भेंट कर सम्मानित किया। उन्होंने मुख्यमंत्री बेटी योजना में 9 प्रतिभाशाली बालिकाओं को सम्मानित किया तथा भामाशाह पशुधन बीमा योजना के तहत 2 पशुपालकों को 40 हजार का चैक भेंट किया। साथ ही प्रतिभावान छात्राओं को झुंझुनू जिले की 13 बालिकाओं को स्कूटी की चाबी एवं लैपटॉप देकर उत्साहवर्धन किया।

जिला विकास पुस्तिका का विमोचन एवं प्रदर्शनी का अवलोकन किया

समारोह में सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा प्रकाशित जिला विकास पुस्तिका का विमोचन किया गया। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने सूचना एवं जनसर्म्पक विभाग द्वारा लगाई गई सुराज के चार साल प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। समारोह को सम्बोधित करते हुए सैनिक कल्याण सलाहकार समिति के अध्यक्ष श्री प्रेम सिंह बाजौर ने मुख्यमंत्री का उत्साह के साथ स्वागत किया।

वीरांगनाओं को किया सम्मानित

मुख्यमंत्री ने अमर शहीदों की वीरांगना श्रीमती शारदा देवी, श्रीमती संतोष देवी, श्रीमती अलहमदो बानो, श्रीमती ज्ञानकंवर, श्रीमती सुशीला देवी, श्रीमती सुमन देवी, श्रीमती बबीता पूनियां, श्रीमती विमल कंवर, श्रीमती रूकमा देवी, श्रीमती संजु देवी, श्रीमती सुनिता देवी, श्रीमती शारदा देवी एवं श्रीमती सुगनी देवी को सम्मानित किया।

समारोह में पीडब्लूडी एवं परिवहन मंत्री यूनुस खान, खनिज राज्य मंत्री सुरेन्द्र पाल टीटी, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्यमंत्री बंशीधर बाजिया, सैनिक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष प्रेमसिंह बाजौर, अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष सुन्दरलाल काका, सांसद संतोष अहलावत एवं स्वामी सुमेधानन्द, विधायक अभिषेक मटोरिया, शुभकरण चौधरी, नरेन्द्र सिंह, कैलाश वर्मा, सीकर यूआईटी अध्यक्ष हरिराम रिणवा, झुन्झूनूं नगर परिषद् सभापति सुदेश अहलावत सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी तथा बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित थे।

प्रदेशवासियों को दी ये सौगातें

  • प्रदेश में विभिन्न सेवाओं में सीधी भर्ती के लिए अधिकतम आयु सीमा 35 से बढ़ाकर अब 40 वर्ष होगी।
  • एक लाख 70 हजार को 4 वर्षों में सरकार नौकरी। आने वाले समय में एक लाख 40 हजार सरकारी नौकरियां और दी जायेंगी।
  • सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्तियों को निजी और सरकारी अस्पतालों में 48 घंटे की निःशुल्क चिकित्सा।
  • सरकारी अस्पतालों में हृदय रोगियों की एंजियोग्राफी निःशुल्क की जायेगी।
  • एक जनवरी, 2018 से प्रदेश के सहकारी भूमि विकास बैंकों से किसानों को केवल 5.5 प्रतिशत ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध होगा। अभी ब्याज दर 6.7 प्रतिशत है।
  • ऋण लेने वाले सभी किसानों का व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा योजना में आगामी 1 अप्रेल, 2018 से बीमा लाभ 6 लाख से बढ़ाकर 10 लाख रुपए किया जाएगा।
  • मण्डावा, गोठड़ा एवं खेतड़ी के अलावा 246 गांवों को मार्च, 2018 तक शुद्ध नहरी पेयजल उपलब्ध होगा।
  • झुन्झुनू के उदयपुरवाटी (ग्रामीण एवं शहरी) एवं बुहाना, चिड़ावा व सूरजगढ़ क्षेत्रों में पेयजल के लिये लगभग 1300 करोड़ रुपए की योजना लायेंगे।
  • पिलानी क्षेत्र में भी पेयजल के लिये डीपीआर का काम हाथ में लिया जायेगा। इसके लिये 3 करोड़ रुपए का प्रावधान कर रहे हैं।
  • आरयूआईडीपी के चौथे चरण में 100 करोड़ की लागत से खेतड़ी, 125 करोड़ की लागत से मंडावा तथा 60 करोड़ रुपए की लागत से नवलगढ़ में और झुन्झुनूं में 237 करोड़ रूपए खर्च कर पेयजल और सीवरेज के काम होंगे।
  • सहकारिता के माध्यम से जैनेरिक दवाईयों के लिए चरणबद्ध रूप से 200 प्रधानमंत्री जन औषधि केन्द्र खोले जाएंगे।
  • किसानों को कोर बैंकिंग एवं मॉडर्न बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध करवाने के लिये 190 करोड रु. की लागत से सभी पैक्स का कम्प्यूटराइजेशन किया जायेगा।
  • 150 करोड़ रुपए से 1000 नवीन पशु चिकित्सा उप केन्द्रों व 100 पशु चिकित्सालयों के भवन निर्माण करवाये जायेंगे। झुन्झनूं जिले में 47 केंद्र खोले जायेंगे।
  • एसएमएस मेडिकल कॉलेज, जयपुर एवं सम्बद्ध चिकित्सालयों में 25 करोड़ रुपए के उपकरण खरीदे जायेंगे एवं निर्माण कार्य करवाये जायेंगे।
  • अजमेर, भीलवाड़ा, चूरू और बीकानेर जिले में 9 करोड़ रुपए प्रति चिकित्सालय की लागत से 50 बैड वाले एकीकृत आयुष चिकित्सालय खोले जायेंगे।
  • स्वतंत्रता के पश्चात शहीद हुए सैनिकों के नाम से विद्यालय एवं गौरव पथ का नामकरण किया जायेगा।
  • आजादी के बाद शहीद हुए सैनिकों के परिवार के एक सदस्य को राजकीय सेवा में नियुक्ति दी जायेगी।
  • इंदिरा गांधी नहर परियोजना क्षेत्र में जिन पूर्व सैनिकों को भूमि आंवटन का निर्णय हुआ था, परन्तु आदेश जारी होने से पहले उनकी मृत्यु हो गई। अब उनके आश्रितों को भूमि का कब्जा दिया जायेगा।
  • कारगिल पैकेज में राजस्थान आवासन मण्डल के जो आवास अभी तक आवंटित नहीं हुए, उन्हें आवंटित किया जायेगा।
  • राष्ट्रीय खेल संस्थान, पटियाला की तर्ज पर झुंझुनूं में राज्य क्रीड़ा संस्थान की स्थापना की जायेगी। सभी 15 अकादमियां इससे सम्बद्ध रहेगी।
  • झुन्झुनू में सैनिक स्कूल की स्थापना के लिये 184 करोड़ रुपये मंजूर।

जयपुर, 13 दिसम्बर 2017